TEJASVI ASTITVA
MULTI-LINGUAL MULTI-DISCIPLINARY RESEARCH JOURNAL
ISSN NO. 2581-9070 ONLINE

मैत्रेयी पुष्पा की आत्मकथाओं में मानव-मूल्य

कुमारी अर्पणा,शोध छात्रा,

मगध विश्व विद्यालय, बोधगया

 

किसी भी साहित्यिक कृति के मूल्य निर्धारण हेतु उस रचना के कथा-काल का आकलन आवश्यक है। मैत्रेयी पुष्पा की आत्मकथाओं का कथा-काल भारतीय उपमहाद्वीप के आजादी पूर्व लगभग बीसवीं सदी के चैथे दशक से आरम्भ होकर 21 वीं सदी के सरहद को पार करती है। आधी सदी को अपने कथा-काल के रुप में समेटने का भगीरथ प्रयास मैत्रेयी ने किया है। मैत्रेयी ने अपनी आत्मकथाओं में जितने बङे कथा-काल को समेटा है, वह भारतीय इतिहास का एक बङा और महत्वपूर्ण काल है। आजादी के पूर्व से शुरु होकर आजाद भारत के नेहरु-युग, इन्दिरा-युग और बाद के दिनों को भी अपने कथांश बनाया है। इस लम्बी अवधी में भारत गुलामी से आजादी, पुनर्जागरण से भारत-निर्माण, लोकतंत्र से समाजवाद, समाजिक से आर्थिक प्रगति तक का नारा दे चुका है। जमींदारी-प्रथा के क्रूर यथार्थ को झेलने के बाद किसानों को लगान मुक्ति का सुख तक, नारी-शोषण के जालिम तरिकों से बेटी पढाओ, बेटी बढाओ के नारे तक, गोरो के आतंक से आजाद देष के दारोगा के जुल्मोसितम तक फैला मैत्रेयी की आत्मकथाओं का कथा-काल भारतीय समाज के समाजशास्त्रीय विश्लेशण के लिए उपयोगी स्रोत है।

मैत्रेयी पुष्पा की आत्मकथाओं का समाजशास्त्रीय अध्ययन के तहत् पाठ में वर्णित समाज और सामाजिक संबंधों के ताना-बाना को जानना है। समाज मूलतः परिवारों का समुच्चय है। व्यक्ति प्रथमतः परिवार का सदस्य होता है, फिर वह समाज की अन्य इकाईयों से अपना संबंध स्थापित करता है। आत्मकथा में लेखक या लेखिका ही कथा का केन्द्रीय पात्र होता है। मैत्रेयी पुष्पा की आत्मकथाओं में भी केन्द्रीय पात्र मैत्रेयी ही है। मैत्रेयी के चतुर्दिक उसके परिवार और समाज के अन्य पात्र हैं। इन आत्मकथाओं में मैत्रेयी ने अनेक पात्रों का चरित्रांकन किया है। सर्वप्रथम मैत्रेयी की माॅ कस्तूरी आत्मकथा के प्रथम भाग ‘कस्तूरी कुंडल बसै’ में प्रधान पात्र की भूमिका में दिखती है। आत्मकथा की लेखिका मैत्रेयी पुष्पा के व्यक्तित्व निर्माण में सर्वाधिक प्रबल भूमिका उसकी माॅ कस्तूरी को जाता है, क्योंकि वह उसकी माॅ है। कस्तूरी और मैत्रेयी के संबंध को माॅ-बेटी के संबंध के रुप में देखते हुए हमें तत्कालीन परिस्थिति और परिवेश के संग समय का खयाल भी रखा जाएगा।

साहित्य रचना में लेखकीय प्रयोजन को स्पष्ट करने का आलोचकीय दायित्व तो शोधार्थी का बनता ही है। इसलिए अध्येता ने ‘कस्तूरी कुंडल बसै’ के प्रथम अध्याय के पहले अंष की प्रस्तुती के लेखकीय प्रयोजन को तलाशने की कोषिष की है। लेखिका ने सबसे पहले विवाह को अपनी प्रस्तुती का केन्द्रीय विषय बनाया। विवाह भारतीय समाज में एक सामाजिक-धार्मिक अनुष्ठान माना जाता है। विवाह परिवार की धूरी है। विवाह का संबंध सामाजिक प्रतिष्ठा से जुङा होता है। विवाह आवश्यकता भी है और अनिवार्यता भी। विवाह जिज्ञासा भी है और आतंक भी। विवाह के प्रति व्यक्ति और समाज की स्पष्ट धारणा होती है। लेखिका ने विवाह के प्रति एक निम्न वर्गीय ग्रामीण बालिका की संवेदना को आकार दिया है। विवाह के प्रति कस्तूरी की भावना और धारणा ऐसी क्यों बन गयी है कि वह आहिस्ते से कह उठी – ‘मैं ब्याह नहीं करुॅगी।’ आखिर आजादी पूर्व की भारतीय  ग्रामीण समाज व्यवस्था में ऐसा क्या था कि जिस विवाह के प्रति जिज्ञासा और कौतुहल होना चाहिये , उसके प्रति भय और आतंक का माहौल बना था। ब्याह क्यों ? का उत्तर ढूॅढते हुए कस्तूरी इतना घबरा जाती है कि ‘दोबारा ब्याह के बारे में सोचना नहीं चाहती।’’ ब्याह को झमेला मानने वाली संवेदना के स्वरुप पर विशेष कुछ कहने को रह नहीं जाता।

शादी-विवाह स्त्री-पुरुष का पति-पत्नी के रुप में मिलन है। इस मिलन की अपनी सामाजिक अनिवार्यता है। स्त्री-पृरुष के इस वैवाहिक मिलन से अनेक सामाजिक और पारिवारिक दायित्व जुङ जाता है। विवाह के नाम पर स्त्री-पुरुष के इस मिलन से जिम्मेदारियों का क्षेत्र भले ही जितना व्यापक हो जाता हो, लेकिन विवाह के अन्य कारणों के अलावा एक कारण यह है कि स्त्री या पुरुष अकेलेपन से डरता है। उस अकेलेपन से बचने के लिए वह साथी की चाहत और तलाष करता है। कस्तूरी की माॅ ममता से भरकर बोलती है- ‘‘नहीं बेटा, मैं तो यह पूछने आयी थी कि सारी उमर कुआरी रहोगी, अकेली। तूझे डर नहीं लगता।’’ स्त्री-चेतना में विवाह से सुरक्षा का बोध सर्वाधिक प्रबल है। कस्तूरी की माॅ उसे अकेलेपन का आतंक दिखाती है तो कस्तूरी कहती है- ‘‘डर ही तो लगता है चाची। सच्ची ब्याह से बङा डर लगता है।’’ विवाह जो डर से सुरक्षा प्रदान करता है, वहीं बीसवीं सदी के चैथे दशक में ग्रामीण कृषि संस्कृति में अंग्रेजों और सामंतों के दोहरे शोषण तले पली-बढी लङकी कस्तूरी विवाह से ही डरती है। एक ऐसी सामाजिक व्यवस्था जिसमें लङकियों के लिए विवाह भय का कारण बन जाय तो निश्चय ही यह सामाजिक शोध का विषय बनता है। पुरुष की सामंती, शोषणमूलक,वर्चस्ववादी, आतंकी स्वरुप की कल्पना स्वतः जग जाती है, जिसमें एक स्त्री दमित-शोषित होने के भय से हमेशा ग्रस्त रहती है।

विवाह से भय के अनेक कारण हैं। लेखिका ने पाठको की कल्पना को यहाॅ काफी स्पेस दिया है। विवाह से भय इसलिए भी कि एक स्त्री को अपने जङ-मूल से उखङकर दूसरी मिट्टी-पानी में पुनर्जन्म लेना पङता है। उस नवीन मिट्टी-पानी और उसकी आवोहवा से अज्ञानता उसके भय का कारण होता है। मैत्रेयी की कस्तूरी को तो विधवा होने और सती बनाये जाने से भी डर लगता है। स्त्री को पारिवारिक-सामाजिक जिम्मेदारियों को निभाने से डर नहीं लगता है। न ही डर लगता है पृरुषों के प्यार से। उसे तो डर लगता है उसके वर्चस्ववादी व्यवहार से, सामंती संस्कार से। कस्तूरी विवाह से डरती है, क्योंकि उसे पता है कि उसकी शादी किसी बूढे से की जा रही है। उसे इस अनमेल विवाह से डर लगता है। उसे डर लगता है सती होने से।

विवाह एक बंधन है। बंधन से सभी को डर लगता है। किशोर वय में इस बंधन के प्रति एक जज्बा होता है, जिसके विषय में  इशारा करती हुई लेखिका लिखती है- ‘‘वह दिन भर बरहे में (खेतों पर) बछङे-बछियों और उन चिडियों-तोतो के साथ रहती थी, जिनके लिए ब्याह के झमेले न थे।’’ मैत्रेयी की आत्मकथाओं में तत्कालीन भारतीय समाज में व्याप्त तमाम् कुरीतियों का चित्रांकन मिलता है। सती-प्रथा, बाल-विवाह, अनमेल विवाह, रेप, ग्रूप रेप जैसे संगीन अपराध और प्रथा एवं परंपरा के नाम पर तमाम तरह की कुरीतियाॅ फैली नजर आती है। ऐसी तमाम सामाजिक समस्या स्त्री जीवन को बुरी तरह प्रभावित करती नजर आती है।

भारतीय समाज में बेटी के प्रति जो धारणा प्रचलित रही है, मैत्रेयी ने उसे प्रत्यक्ष करने की कोशिश की है। बेटी के जन्म से लेकर उसकी डोली और अर्थी उठने तक समाज में उसके प्रति जैसी धारणा देखने को मिलती है, लेखिका ने उसे उतारने का प्रयास किया है। लेखिका ने उन कहावतों और लोकोक्तियों को पे्रष किया है, जिससे बेटी के प्रति सामाजिक धारणा की छवि स्पष्ट होती है। जैसै -‘‘जिसकी बेटी कुॅआरी रहती है, उसकी सात पीढियाॅ गल जाती है।’’ या ‘‘गाय मरे अभागे की, बेटी मरे सुभागे की।’’ अथवा ‘‘जब खेती ने दगा दी, बेटी काम आ गयी।’’ इसी तरह बेटी से यह अपेक्षा की जाती है कि ‘‘बेटियाॅ बाप-भाईयों की मर्यादा और आबरु हर हालत में रखती आयी हैं।’’ औरतों की स्थिति का बयान करती हुई मैत्रेयी लिखती हैं- ‘‘औरत पर संशय -संदेह करने के लिए चाहिये ही कितना ?’’

जातिवादी और वर्णवादी समाज व्यवस्था ने भारत को उत्तरवैदिक काल से अपने गिरफत में ले रखा है। भारतीय समाज व्यवस्था वर्णवादी सिद्धांतों पर आधारित रहा है। संपूर्ण भारतीय समाज को चार वर्णों में वर्गीकृत किया गया है। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शुद्र वर्णों में बॅटा यह भारतीय समाज व्यवस्था आरम्भ में भले ही कर्म आधारित रहा हो, लेकिन बाद के दिनों में यह जन्म आधारित हो गया। जबसे जन्मना कोई व्यक्ति ब्राह्मण और कोई शुद्र होने लगा तब से समाज में विभाजन और विरोध के स्वर फूटने लगे। भारतीय समाज में व्याप्त यह वर्णवादी व्यवस्था पिरामीडीय आकार का है, जिसके आधार में शुद्रों की एक बङी संख्या है। इसके उपर वैष्य और उससे उपर क्षत्रिय और सबसे उपर ब्राह्मण विराजवान हैं। इस वर्णवादी व्यवस्था में कर्म को उॅच-नीच की श्रेणी में विभक्त कर दिया गया है। समाज की गंदगी साफ करने वाला और तमाम् तरह का काम करके अपना पेट भरने वाला मेहनती मजदूर, जो इस पिरामीडीय समाज व्यवस्था में सबसे नीचे बङी संख्या में मौजूद है, के कर्मों को कमकर आॅका गया और पोथी-पतरा बाचना सबसे बङा काम बन गया और इसी आधार पर उॅच-नीच का भाव समाज में फैल गया। छुआछूत, दलित उत्पीङन, उूॅच-नीच, भेद-भाव की भावना ने समाज को अपने केंचुल में फॅसा लिया। मैत्रेयी पुष्पा की आत्मकथाओं में इस सामाजिक सत्य को अनेक विभिन्न छवियों में उकेरा गया है।

झाॅसी और उसके आसपास का ईलाका मैत्रेयी के बाल काल में मध्यकालीन अवशिष्ट संसकृति के रुप में वर्णवादी और जातिवादी व्यवस्था अपने निकृष्टतम रुप में मौजूद था। ‘कस्तूरी कुंडल बसै’ में मैत्रेयी ने अपने बचपन की यादों में उसे संजोया है। स्कूल में पढनेवाले बच्चों ने निम्न जाति के छात्र के संग जैसा दुव्र्यवहार किया वह तत्कालीन सामाजिक ढाॅचों और उसके स्वरुप की जानकारी देता है। बिसवीं सदी के उत्तरार्द्ध का आरम्भिक काल दलितों के उत्पीङण का काल रहा है, इसकी गवाही हिन्दी आत्मकथाओं के इतिहास में मिल जाता है। जाति व्यवस्था की सबसे बुरी बात यह है कि  उसमें उॅूच-नीच का भेद-भाव घृणा के हद तक है। भारतीय समाज व्यवस्था की यह जातिवादी और वर्णवादी व्यवस्था भारत में आज भी बदस्तुर जारी है। मैत्रेयी ने अपनी आत्मकथाओं में भारतीय समाज की जातिवादी और वर्णवादी स्वरुप की विकृतियों को सामने लाया है।

टूटती सामंतशाही और बढता अफसरशाही यह भी आजाद भारत का एक सर्वविदित सच है। ‘कस्तूरी कुंडल बसै’ में मैत्रेयी ने उखङती अंग्रेजी सत्ता और दम तोङती सामंती व्यस्था और पनपती लोकतांत्रिक व्यवस्था का जीवंत चित्रण किया है। तभी तो लगान और गोरे के आतंक से भय ग्रस्त कस्तुरी के पति और आजाद भारत में ‘महिला-मंगल’ की संचालिका विधवा कस्तुरी और कस्तुरी की इकलौती बेटी मैत्रेयी, जो न केवल काॅलेज की षिक्षा प्राप्त कर रही है, बल्कि काॅलेज की राजनीति में भाग लेती है। कस्तुरी की बेटी मैत्रेयी में अभिाव्यक्ति की आजादी है, भले ही अभिव्यक्ति के खतरे भी झेलती हैं। आजादी पूर्व की कस्तुरी और आजाद भारत की बेटी मैत्रेयी के हालातों में जो परिवर्तन दिखता है, वह वस्तुतः गुलाम और मध्यकालीन भारत का आजाद और लोकतांत्रिक भारत का अंतर है। तभी तो कस्तुरी की शादी के प्रसंग और मैत्रेयी की शादी के प्रसंग में एक बङा परिवर्तन दिख पङता है। कस्तुरी बेच दी जाती है और मैत्रेयी की शादी बिना तिलक-दहेज के, वह भी एक डाॅक्टर से होने जा रही है। स्थितियों का परिवर्तन समय का बदलाव भी है। समय बदल गया और सिद्धांत बदल गये तो स्थितियाॅ भी बदल जाती है। आजाद भारत में आरम्भ से ही सदियों से बंद स्त्री षिक्षा के द्वार को खोल दिया गया। जिसका परिणाम हमें कस्तुरी की बेटी मैत्रेयी के रुप में मिलती है। आजाद भारज ने स्त्री-षिक्षा के द्वार खुले तभी तो मैत्रेयी में स्वतंत्रता और समानता का भाव और विचार जागा। आजाद भारत में ही अभिव्यक्ति की आजादी मिली जिसकी खुशबू हमें मैत्रेयी के विचारों में मिलता है ।

122 Responses to मैत्रेयी पुष्पा की आत्मकथाओं में मानव-मूल्य

  1. Pingback: natural viagra for men

  2. Pingback: free samples of viagra

  3. Pingback: sildenafil for women

  4. Pingback: pfizer viagra

  5. Pingback: viagra cost

  6. Pingback: viagra boner

  7. Pingback: via best buy viagra

  8. Pingback: sildenafil cost

  9. Pingback: viagra from canada

  10. Pingback: viagra sex

  11. Pingback: tadalafil 20 mg

  12. Pingback: cialis copay card

  13. Pingback: atorvastatin pap

  14. Pingback: viagra side effects

  15. Pingback: sildenafil 50mg

  16. Pingback: cialis daily

  17. Pingback: augmentin and cyp1a2

  18. Pingback: sildenafil 100mg

  19. Pingback: marley generics cialis

  20. Pingback: cheap levitra

  21. Pingback: cephalexin is used for what

  22. Pingback: mrsa ciprofloxacin susceptibility

  23. Pingback: oxybutynin er 10mg tablets

  24. Pingback: interactions for tizanidine

  25. Pingback: aripiprazole for tourettes

  26. Pingback: allopurinol and blood sugar

  27. Pingback: counnteract amiodarone

  28. Pingback: elavil withdrawal symptoms

  29. Pingback: amlodipine atenolol

  30. Pingback: is amoxicillin

  31. Pingback: side affects of aripiprazole

  32. Pingback: alt atorvastatin

  33. Pingback: zithromax for bronchitis

  34. Pingback: does baclofen lower heart rate

  35. Pingback: baclofen hot flashes overdose

  36. Pingback: can you iv bupropion

  37. Pingback: buspar and muscle pain

  38. Pingback: buspirone drug class

  39. Pingback: is carvedilol a statin

  40. Pingback: celebrex vs aleve

  41. Pingback: brain fog celexa

  42. Pingback: viagra 100 mg

  43. Pingback: buy viagra

  44. Pingback: staxyn vs viagra

  45. Pingback: cialis generic name

  46. Pingback: female viagra

  47. Pingback: viagra pfizer

  48. Thanks for every other informative website. Where else may I get that kind of information written in such an ideal way? I’ve a challenge that I am simply now working on, and I have been at the glance out for such information.

  49. Pingback: buy cialis from overseas

  50. Pingback: herbal viagra male enhancement pills

  51. I have been surfing on-line more than three hours today, yet I by no means found any attention-grabbing article like yours.

    It’s lovely price sufficient for me. Personally, if all webmasters and bloggers made just right content
    as you did, the internet will be much more useful than ever before.

  52. Great post. I was checking constantly this blog and I’m impressed!
    Very useful info specifically the last part 🙂
    I care for such info much. I was seeking this certain info
    for a very long time. Thank you and best of luck.

  53. I’ve been browsing online more than 2 hours today, yet I never found any interesting article like
    yours. It’s pretty worth enough for me. In my opinion, if all web owners and bloggers made good content as you did, the web will be much more useful than ever
    before.

  54. You have made some decent points there. I looked on the internet for more information about
    the issue and found most people will go along with your views on this web site.

  55. Thanks for your publish. My partner and i have always observed that a majority of people are wanting to lose weight as they wish to appear slim in addition to looking attractive. Nevertheless, they do not always realize that there are additional benefits for losing weight as well. Doctors insist that obese people have problems with a variety of ailments that can be instantly attributed to the excess weight. The good thing is that people that are overweight in addition to suffering from different diseases can reduce the severity of their illnesses through losing weight. You possibly can see a constant but marked improvement in health whenever even a slight amount of losing weight is accomplished.

  56. I’ve been browsing online greater than 3 hours these days,
    but I by no means discovered any attention-grabbing article like yours.

    It’s beautiful price enough for me. In my opinion, if all webmasters and
    bloggers made just right content material as you probably did, the internet will probably be a lot more helpful
    than ever before.

  57. Howdy would you mind sharing which blog platform you’re using?
    I’m looking to start my own blog in the near future but I’m having a
    difficult time deciding between BlogEngine/Wordpress/B2evolution and
    Drupal. The reason I ask is because your design and style seems different then most blogs and I’m looking for
    something unique. P.S Sorry for getting off-topic
    but I had to ask!

  58. Woah! I’m really loving the template/theme of this site.

    It’s simple, yet effective. A lot of times it’s challenging to get that “perfect balance” between user friendliness and visual appeal.
    I must say that you’ve done a superb job with this.

    Also, the blog loads very fast for me on Internet explorer.
    Superb Blog!

  59. It is the best time to make a few plans for the longer term and it is time
    to be happy. I’ve learn this put up and if I may
    I want to recommend you few fascinating issues or suggestions.
    Maybe you can write next articles regarding this article.
    I want to read even more things approximately it!

  60. It is appropriate time to make some plans for the long run and
    it’s time to be happy. I have learn this publish and if I could I wish to counsel you some attention-grabbing issues
    or advice. Maybe you can write next articles regarding this article.
    I wish to read even more issues about it!

  61. In my opinion that a property foreclosure can have a important effect on the client’s life. Mortgage foreclosures can have a 7 to few years negative effects on a applicant’s credit report. A new borrower having applied for home financing or just about any loans for instance, knows that the actual worse credit rating can be, the more difficult it is for any decent financial loan. In addition, it might affect any borrower’s power to find a decent place to lease or hire, if that will become the alternative housing solution. Great blog post.

  62. I seriously love your site.. Great colors & theme.
    Did you make this site yourself? Please reply back as
    I’m planning to create my own website and would like to know where you got this
    from or just what the theme is named. Appreciate it!

  63. It’s the best time to make some plans for the future and it’s time to be happy.
    I have learn this publish and if I may I wish to recommend
    you some attention-grabbing things or tips. Perhaps you could write next articles regarding this article.
    I desire to read even more things approximately it!

  64. I don’t even know how I ended up here, but I thought this post was great.
    I do not know who you are but certainly you’re
    going to a famous blogger if you aren’t already 😉 Cheers!

  65. Pingback: buy cialis with discover

  66. I will immediately grasp your rss as I can not to find your e-mail subscription link or newsletter service.
    Do you’ve any? Kindly permit me realize so that I may subscribe.
    Thanks.

  67. wonderful points altogether, you just received a new reader. What could you suggest about your publish that you simply made a few days in the past? Any certain?

  68. Pingback: viagra packs genaric

  69. I have been surfing online more than 2 hours today, yet I never found any interesting article
    like yours. It is pretty worth enough for me. In my opinion, if all web owners and bloggers made good
    content as you did, the internet will be much more useful than ever before.

  70. I’ll immediately grasp your rss as I can not to find your
    e-mail subscription hyperlink or newsletter service.

    Do you have any? Kindly allow me recognise in order
    that I may subscribe. Thanks.

  71. It’s perfect time to make some plans for the future and it is time to be happy.

    I’ve read this put up and if I may just I want to recommend you few fascinating things or advice.
    Maybe you could write next articles referring to this article.
    I desire to learn more issues about it!

Leave a Comment

Name

Email

Website

 
CLOSE
CLOSE